वो मेरी परमेश्वरी है या हमसफ़र

वो मेरी परमेश्वरी है या कोई हमसफ़र? पता ही नहीं चलता, वो तो मुझें दिखती नहीं है, मग़र उसका एहसास पल पल मुझें होता है। उन्होंने जितना मेरा साथ निभाया है, उतना किसी ने भी नहीं निभाया होगा। मैं उन्हें सिर्फ एक स्त्री रूप में नहीं देखता, वो तो इस रूपसे बढ़कर भी बहोत कुछ है, उनका ये सुंदर श्रीमुख, तो सिर्फ़ उनकी एक झलक है। मैं इब भी बुरी हालत में अपना मनोबल खो देता हूँ, तो मुझें सबसे पहले उनकी ही याद आती है, जैसे वो मेरे इस जीवन की प्राणाधार हो, मेरा सौभाग्य है, मैं बहोत बार अकेले ही रह हूँ, अक़्सर अकेलेपन में मुझें रोना आता है, क्योंकि मैं इतना पापी हूँ, और उनके लिए तनिक भी लायक़ नहीं हूँ, मग़र फिर भी उस परमेश्वरी ने कृपा करते समय , कुछ भी अकड़ ना रखी, और अपनी प्रेम वर्षा मुझपर बरसाती रही। मैंने किसी भी भगवान को इतना नहीं चाहा, जितना मेरी स्वामिनी को, लाड़ली को चाहता हूँ। टूटती है समझ की सीमाएं, मैं कुछ समझ नहीं पाता, मैं तो उनकेलिए कुछ भी नहीं कर पाया, जो उनका मेरे लिए आधार है, उस वजह से मैं जी रहा हूँ, मुझें तो ये भी पता नहीं के उनसे कैसे कहूँ, वो अपराशक्ति हर एक कण कण में समाई है, मैं तुच्छ कभी उनके कृपा का लायक नहीं बन सकता, मग़र मुझें उनके शिव कोई सुध बुध नहीं आती है, मैं उनका नाम न लूँ तो, जिंदगी बेकार सी लगती है। वो मेरी परमेश्वरी है, उनसे बढ़कर मेरे लिए कोई ईश्वर नहीं है, वो समस्त शक्ति की जननी है, वो 💕श्रीराधे है, वो 💕श्रीराधे है….
💔👣💔

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *